Pilzac: Some Ayurvedic Herbs useful in Piles. (बवासीर में उपयोगी कुछ आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां।)

Piles, also known as hemorrhoids, occur when the veins in your anus are irritated and swollen. Piles may be uncomfortable and painful, but they are not dangerous. Piles often appear after straining during a bowel movement or having a baby. While piles rarely go away on their own, there are treatments that can help most people with them feel better. In this article, I will be discussing few ayurvedic herbs useful which are useful in piles.

Harad (Terminalia Chebula): Harad (Terminalia chebula) is a herbal medicine. It is also called Swaradgar. It is a source of multiple bioactive phytochemicals. It has contain Terminally chebulinic acid (TCA) which is usefull in therapeutic. Terminally chebulinic acid (TCA) is present in significantly high concentrations in the leaf, bark and fruit of Harad tree. In Ayurveda, Harad tree is used for the treatment for hemorrhoids.It is usefull in the treatment of indigestion and constipation. Researches has revealed that the leaves of this tree contain antioxidant compounds that fight harmful bacteria, kill cancer cells and control tumor growth.

Neem (Azadirachta Indica): Neem has been found to have several benefits to human health. We will talk about uses of neem in piles. Neem is one of the best treatment for piles. It has contained several significant herbal properties such as:  wound Healing, Alleviating, anti-inflamation, Suppositories, Antibacterial, Hypoglycemic, Laxative and anti-diabetic, Anti-fungal, Anti-carcinogenic and Antimicrobial etc.

Piles are medically termed as hemorrhoids. In piles veins around anus or rectum swell up and resulting in bleeding and pain. Neem contains flavonoids having anti-inflammatory, antioxidant and antiseptic property so neem is helpful reduce swell up, bleeding and pain. Neem is also good for reducing itching and pain associated with hemorrhoids by relieving spasms in muscles around the area of anus or rectum. it is helpful to soothe the sensitive areas. Neem is act like a Lubricant, helping stool pass more easily through the area.  and has antiseptic properties.

Haldi (Curcuma Longa): Haldi is an Ayurvedic herb that has been used to treat piles for hundreds of years. It is useful for both internal and external hemorrhoids. This herb can be taken internally in the form of a tea, capsule and tablet. Massaged with a haldi-infused oil on affected area is also useful. Haldi helpful to prevent bleeding, sooth irritation, and relieve pain caused by hemorrhoids. It has disinfectant, anti-inflammatory and antioxidant properties. It has antioxidant properties that help reduce inflammation and damage caused by free radicals in the body. Haldi which is scientifically known as Curcuma longa, it is one of the cheap and most easily available ingredients which is helpful to cureing piles. Haldi has shown some amazing results in treating and curing piles.

Loh Bhasma (Classical):  Loh Bhasma is a classical preparation of Iron which is considered as the best remedy for piles. It is a well-known and widely used medicine for piles in Ayurveda. It reduces inflammation, pain as well as bleeding in piles by strengthening the walls of blood vessels it helps in bonding the stool and also improves blood circulation. 

Loh Bhasma is used in Ayurvedic medicines like Anu Taila, Chirbilvadi Vati, Chirata Plus, Kaishore Guggul, Kankayan Vati etc. Loh Bhasma is also used to treat anemia, asthma, bronchitis, fever, arthritis etc.

Vidang (Embelia Ribes): Vidang (Embelia Ribes) is an Ayurvedic herb that has been used traditionally in the treatment of piles. It contains alkaloids, flavonoids, and tannins. It is considered a useful astr-ingent and antispasmodic agent. It can also improve digestion, which is sometimes helpful in the case of piles. It has anti-inflammatory, anti-bacterial and anti-oxidant properties. Embelin present in this herb reduces inflammation of the rectum. This property of vidang is useful in treating piles and fissures.

Daruhaldi (Berberis Aristata): In Ayurveda, Daruhaldi has been used for piles (hemorrhoids), as it can reduce inflammation and swelling in the anus. It contains berberine, which is a chemical known for its antibacterial properties. It is very effective to prevent bleeding in patients with piles.

Kutki (Picrorhiza kurrooa): Kutki (Picrorhiza kurrooa) is used in piles. The herb contains the anti-inflammatory flavonoids and picroside 1 and 2, which reduce swelling. It also relieves constipation by stimulating bile flow and peristalsis. 

Munnaca (Vitis Vinifera): Munnaca\, a creeper which is commonly known as grapevine. They are useful in piles, fistula, anemia and thirst. The root of the plant is astringent, refrigerant, laxative, diuretic and useful in piles. The fruit of this plant contains high levels of vitamins A, B6, C, E, and K. It also has essential minerals like calcium, potassium, magnesium, manganese, selenium and iron. These essential minerals  work to inprove skin and increase hair health as well as your immune system. They also promote brain and eye health. it has antibacterial properties and contain flavonoids which have antioxidant properties. and useful to reduce pain and inflammation. 

Manjistha (Rubia Cordifolia): Manjistha (Rubia cordifolia) is a main herb used in piles. It is a purgative and helps in the healing of wounds, ulcers, and fistulas. Its astringent property helps reduce bleeding from the piles and ruptures. High Levels of antioxidants and other active ingredients is the cause of it's healing properties. It has also been found effective in the treatment of piles. Manjistha, helps to break down toxins that may have accumulated in the body. Our body Carried out those toxins by bowel movements. This helps to reduce the swelling associated with hemorrhoids and relieves pain and itching. Manjistha has contain anti-inflammatory, anti-microbial, analgesic, anti-diabetic, and anti-cancer effects. It is usefull in the treatment of blood disorders such as bleeding piles, hemorrhoids, menorrhagia, metrorrhagia, and dysmenorrhea.

Pipal (Ficus religiosa): Pipla or pipli herb has multiple benefits in the treatment of piles. Pipal is useful in treating piles, fistula and ulcers. It is useful for effective corrects the digestive system. It has anti-inflammatory properties. It reduces the blood flow on piles affected area and gives relief in burning and itching sensation. This herb is also used as a mild laxative which helps to treat constipation.

In Piles, Constipation is the main problems, the bark of the Pipal tree is helpful to provide the relief from constipation problems. It is helpful to making bowel movements easier, Pipal bark may help to alleviate some of the symptoms in piles condition and prevent it from worsening. Its fruit is edible, but its bark, seeds, and roots are used in traditional Ayurvedic medicine.

Kalimirch (Piper Nigrum): In Ayurveda, kalimirch is considered to have an anti-inflam matory property and is included in many herbal remedies for inflammatory conditions. Kalimirch is commonly combined with other herbs, such as Punarnava (Boerhaavia diffusa), which is also considered effective for inflammation. Kalimirch has been used to treat digestive issues. It is included in many formulations meant to alleviate stomach cramps or gas. It has also been used to treat diarrhea and constipation by balancing out digestive function. Its anti-infla mmatory properties it is often recommended for treatment of piles or hemorrhoids. When combined with other ingredients it can help relieve the itching and inflammation associated with hemorrhoids and helpful to prevent infection.

Danti Mool (Baliospermum Montanum): Danti Mool (Baliospermum Montanum) is a very useful herb in piles.  It works as an effective anti infla mmatory agent and helps to reduce pain, swelling, inflammation and bleeding due to hemorrhoids. It also contains analgesic properties, which help in relieving pain and discomfort. Being a powerful astringent, it contracts the tissues and stimulates healing.

Kuth (Saussurea Costus): Kuth also called Saussurea Costus. It is helpful for the treatment of piles. Because piles is a condition that can cause swelling around the anus and in the rectum. It is often very painful, and can be caused by constipation or other digestive problems. It helps to clear out the digestive tract and reduce inflammation.
Other than Piles, it has been used in Ayurveda since ancient times to treat diseases like dysentery, jaundice, leprosy, asthma and skin diseases. The herb has a peculiar smell and bitter taste. It is sweet in post-digestive effect and astringent in taste. 
Kuth is useful to increase the digestive fire and  mainly acts on Vata as well as Kapha dosha. It also helps in the treatment of hemorrhoids, constipation, worms, and respiratory ailments.It also helps in reducing inflammation and pain caused by Piles.
Sonth (Zingiber officinale): It is also known as dry ginger. Ayurveda recommends the usage of this ingredient for quick relief from piles. It is useful in the treatment of hemorrhoids due to its anti-infla mmatory, antioxidant, and antimicrobial properties. Consuming this herb will help reduce the swelling and pain caused by piles. It also helps improve digestion and prevents further accumulation of toxins in the body.
Karanj (Millettia Pinnata): Karanj is a medicinal herb that has been used for centuries in Ayurvedic medicine to treat hemorrhoids. Karanj is useful for the treatment of eczema, ringworm, itching inflammation and scabies. It has antimicrobial properties. Karang has been used as a laxative for centuries.
This herb has the properties of being anti-inflammation and anti-ulcerogenic. This herbs are useful in hemorrhoids, skin diseases, gastric ulcers. It is useful in treating the conditions of hemorrhoids and ulcers by reducing the inflammatory response, acting as an anti-inflammatory and anti-ulcerogenic agent.
Lodhra (Symplocosa Racemosa): Lodhra is a useful herb that can be used in the treatment of piles. Lodhra is an astringent and contains tannin, which helps to reduce inflammation. It also supports healthy tissue growth and soothes the affected area.  It also improves blood circulation throughout your body by dilating blood vessels which helps reduce high blood pressure. 
Lodhra can help ulcers and other gastrointestinal disorders such as diarrhea or constipation. It is also known to be anti-infla mmatory and anti-fungal, making it useful in treating wounds and infections.
Lodhra is a very useful in bleeding piles. it is helpful to pacifies all the three doshas and hence can be used for all types of piles.
Padmaka (Prunus cerasoidus) : Padmaka has anti-inflammatory, anti-bacterial and antioxidant properties that helps to reduce the pain of piles. The herb is also used for treating chronic ulcers, constipation and diarrhoea, dyspepsia and anaemia.
Padmaka  is used in traditional Ayurvedic medicine for the treatment of hemorrhoids. It has been used traditionally as a diuretic, anti-infla mmatory and anti-microbial agent. It is also useful in chronic ulcers, constipation and diarrhoea, dyspepsia, anaemia and to strengthen the adrenal glands.
Bola (Commiphora Myrrha): Bola is useful in piles. It is astringent, anti-inflammatory, analgesic and styptic. The resin is applied on ulcers, abscesses, boils and wounds. It is also used as a mouth wash in pyorrhoea. It has a bitter astringent taste and is useful in curing diseases like piles and digestive disorders.
Giloy (Tinospora Cordifolia): Giloy is an Ayurvedic herb that has been used for centuries to treat a variety of ailments, including piles. it acts as an immunomodulator. It helps the body maintain its ability to adapt to stress. Giloy contains anti-inflammatory compounds that can reduce the swelling in veins that causes piles. You can apply it directly on the hemorrhoids. It is helpful to reduce inflammation and pain.
It also helps in strengthening the immune system, thus preventing the recurrence of piles. Giloy is also effective in treating constipation, which is one of the main causes of piles.

Pilzac is a product made up of some Ayurvedic herbs which are helpful in the treatment of Piles. It made using of above mention herbs. it comes in the packing of 10x10 tablet.




बवासीर तब होता है जब आपके गुदा में नसों में जलन और सूजन हो जाती है। बवासीर असहज और दर्दनाक हो सकता है, लेकिन वे खतरनाक नहीं हैं। बवासीर अक्सर मल त्याग के दौरान या बच्चा होने पर तनाव के बाद दिखाई देता है। जबकि बवासीर शायद ही कभी अपने आप दूर हो जाते हैं, ऐसे उपचार हैं जो अधिकांश लोगों को बेहतर महसूस करने में मदद कर सकते हैं। इस लेख में, मैं कुछ आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के बारे में चर्चा करूँगा जो बवासीर में उपयोगी हैं।

हरड़ (टर्मिनलिया चेबुला): हरड़ (टर्मिनलिया चेबुला) एक हर्बल औषधि है। इसे स्वरदगर भी कहा जाता है। यह कई बायोएक्टिव फाइटोकेमिकल्स का स्रोत है। इसमें टर्मिनली चेबुलिनिक एसिड (TCA) होता है जो चिकित्सीय में उपयोगी होता है। हरड़ के पेड़ की पत्ती, छाल और फल में टर्मिनली चेबुलिनिक एसिड (TCA) काफी अधिक मात्रा में मौजूद होता है। आयुर्वेद में, हरड़ के पेड़ का उपयोग बवासीर के इलाज के लिए किया जाता है। यह अपच और कब्ज के इलाज में उपयोगी है। शोधों से पता चला है कि इस पेड़ की पत्तियों में एंटीऑक्सीडेंट यौगिक होते हैं जो हानिकारक बैक्टीरिया से लड़ते हैं, कैंसर कोशिकाओं को मारते हैं और ट्यूमर के विकास को नियंत्रित करते हैं।

नीम (अजादिराछा इंडिका): नीम में मानव स्वास्थ्य के लिए कई लाभ पाए गए हैं। हम बवासीर में नीम के उपयोग के बारे में बात करेंगे। नीम बवासीर के सबसे अच्छे उपचारों में से एक है। इसमें कई महत्वपूर्ण हर्बल गुण शामिल हैं जैसे: घाव भरने, कम करने, सूजन-रोधी, सपोसिटोरियल, जीवाणुरोधी, हाइपोग्लाइसेमिक, रेचक और मधुमेह विरोधी, एंटी-फंगल, एंटी-कार्सिनोजेनिक और एंटीमाइक्रोबियल आदि।

पाइल्स को चिकित्सकीय भाषा में बवासीर कहा जाता है। बवासीर में गुदा या मलाशय के आसपास की नसें सूज जाती हैं और इसके परिणामस्वरूप रक्तस्राव और दर्द होता है। नीम में फ्लेवोनोइड्स होते हैं जिनमें एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सिडेंट और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं इसलिए नीम सूजन, रक्तस्राव और दर्द को कम करने में सहायक होता है। नीम गुदा या मलाशय के आसपास की मांसपेशियों में ऐंठन से राहत देकर बवासीर से जुड़ी खुजली और दर्द को कम करने के लिए भी अच्छा है। यह संवेदनशील क्षेत्रों को शांत करने में सहायक है। नीम एक लुब्रिकेंट की तरह काम करता है, जिससे मल क्षेत्र से अधिक आसानी से गुजरने में मदद मिलती है। और इसमें एंटीसेप्टिक गुण होते हैं।

हल्दी (Curcuma longa): हल्दी एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसका उपयोग सैकड़ों वर्षों से बवासीर के इलाज के लिए किया जाता रहा है। यह आंतरिक और बाहरी दोनों बवासीर के लिए उपयोगी है। इस जड़ी बूटी को चाय, कैप्सूल और टैबलेट के रूप में आंतरिक रूप से लिया जा सकता है। प्रभावित जगह पर हल्दी के तेल से मालिश करने से भी फायदा होता है। हल्दी रक्तस्राव को रोकने, जलन को शांत करने और बवासीर के कारण होने वाले दर्द से राहत दिलाने में सहायक है। इसमें कीटाणुनाशक, सूजन-रोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो शरीर में फ्री रेडिकल्स से होने वाली सूजन और क्षति को कम करने में मदद करते हैं। हल्दी जिसे वैज्ञानिक रूप से कुरकुमा लोंगा के नाम से जाना जाता है, यह सस्ती और सबसे आसानी से उपलब्ध सामग्री में से एक है जो बवासीर को ठीक करने में सहायक है। बवासीर के इलाज और ठीक करने में हल्दी ने कुछ आश्चर्यजनक परिणाम दिखाए हैं।

लोह भस्म: लोह भस्म लोहे की एक क्लासिकल तैयारी है जिसे बवासीर के लिए सबसे अच्छा उपाय माना जाता है। यह आयुर्वेद में बवासीर के लिए एक प्रसिद्ध और व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली दवा है। यह रक्त वाहिकाओं की दीवारों को मजबूत करके सूजन, दर्द के साथ-साथ बवासीर में रक्तस्राव को कम करता है यह मल को बांधने में मदद करता है और रक्त परिसंचरण में भी सुधार करता है।

लोह भस्म का उपयोग अनु तैला, चिरबिलवाड़ी वटी, चिरता प्लस, कैशोर गुग्गुल, कंकायन वटी आदि आयुर्वेदिक दवाओं में किया जाता है। लोह भस्म का उपयोग एनीमिया, अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, बुखार, गठिया आदि के इलाज के लिए भी किया जाता है।


विडांग (एम्बेलिया रिब्स): विडांग (एम्बेलिया रिब्स) एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसका उपयोग पारंपरिक रूप से बवासीर के उपचार में किया जाता रहा है। इसमें एल्कलॉइड, फ्लेवोनोइड्स और टैनिन होते हैं। इसे एक उपयोगी एस्ट्र-इंजेंट और एंटीस्पास्मोडिक एजेंट माना जाता है। यह पाचन में भी सुधार कर सकता है, जो कभी-कभी बवासीर के मामले में सहायक होता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं। इस जड़ी बूटी में मौजूद एम्बेलिन मलाशय की सूजन को कम करता है। विडांग का यह गुण बवासीर और फिशर के इलाज में उपयोगी होता है।

 

दारुहल्दी (बर्बेरिस अरिस्टाटा): आयुर्वेद में, दारुहल्दी का उपयोग बवासीर (बवासीर) के लिए किया गया है, क्योंकि यह गुदा में सूजन और सूजन को कम कर सकता है। इसमें बेरबेरीन होता है, जो एक रसायन है जो अपने जीवाणुरोधी गुणों के लिए जाना जाता है। बवासीर के रोगियों में रक्तस्राव को रोकने के लिए यह बहुत प्रभावी है।

 

मुन्नाका (Vitis Vinifera): मुन्नाका एक लता जिसे आमतौर पर अंगूर की बेल के रूप में जाना जाता है। ये बवासीर, फिस्टुला, रक्ताल्पता और प्यास में उपयोगी होते हैं। पौधे की जड़ कसैले, शीतलक, रेचक, मूत्रवर्धक और बवासीर में उपयोगी होती है। इस पौधे के फल में उच्च स्तर के विटामिन , बी 6, सी, और के होते हैं। इसमें कैल्शियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम, मैंगनीज, सेलेनियम और आयरन जैसे आवश्यक खनिज भी होते हैं। ये आवश्यक खनिज त्वचा को बेहतर बनाने और बालों के स्वास्थ्य के साथ-साथ आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने का काम करते हैं। वे मस्तिष्क और आंखों के स्वास्थ्य को भी बढ़ावा देते हैं। इसमें जीवाणुरोधी गुण होते हैं और इसमें फ्लेवोनोइड्स होते हैं जिनमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। और दर्द और सूजन को कम करने के लिए उपयोगी है।

मंजिष्ठा (रूबिया कॉर्डिफोलिया): मंजिष्ठा बवासीर में इस्तेमाल होने वाली एक प्रमुख जड़ी बूटी है। यह एक रेचक है और घाव, अल्सर और नालव्रण के उपचार में मदद करता है। इसका कसैला गुण बवासीर और फटने से होने वाले रक्तस्राव को कम करने में मदद करता है। उच्च स्तर के एंटीऑक्सिडेंट और अन्य सक्रिय तत्व इसके उपचार गुणों का कारण हैं। यह बवासीर के इलाज में भी कारगर पाया गया है। मंजिष्ठा, शरीर में जमा हो सकने वाले विषाक्त पदार्थों को तोड़ने में मदद करती है। हमारा शरीर उन विषाक्त पदार्थों को मल त्याग द्वारा बाहर निकालता है। यह बवासीर से जुड़ी सूजन को कम करने में मदद करता है और दर्द और खुजली से राहत देता है। मंजिष्ठा में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-माइक्रोबियल, एनाल्जेसिक, एंटी-डायबिटिक और एंटी-कैंसर प्रभाव होते हैं। यह रक्त विकारों जैसे रक्तस्रावी बवासीर, बवासीर, मेनोरेजिया, मेट्रोरहागिया और कष्टार्तव के उपचार में उपयोगी है।

पीपल (फिकस रिलिजिओसा),: बवासीर के इलाज में पिपला या पिपली जड़ी बूटी के कई फायदे हैं। पीपल बवासीर, फिस्टुला और अल्सर के इलाज में उपयोगी है। यह पाचन तंत्र को प्रभावी रूप से सही करने के लिए उपयोगी है। इसमें सूजनरोधी गुण होते हैं। यह बवासीर प्रभावित क्षेत्र पर रक्त के प्रवाह को कम करता है और जलन और खुजली में राहत देता है। इस जड़ी बूटी का उपयोग हल्के रेचक के रूप में भी किया जाता है जो कब्ज के इलाज में मदद करता है।

बवासीर में, कब्ज मुख्य समस्या है, पीपल के पेड़ की छाल कब्ज की समस्या से राहत दिलाने में सहायक होती है। यह मल त्याग को आसान बनाने में सहायक है, पीपल की छाल बवासीर की स्थिति में कुछ लक्षणों को कम करने और इसे बिगड़ने से रोकने में मदद कर सकती है। इसका फल खाने योग्य होता है, लेकिन इसकी छाल, बीज और जड़ों का उपयोग पारंपरिक आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता है। 

कालीमिर्च (पाइपर नाइग्रम): आयुर्वेद में, कालीमिर्च को एक सूजन-रोधी गुण माना जाता है और सूजन की स्थिति के लिए कई हर्बल उपचारों में शामिल किया जाता है। कालीमिर्च को आमतौर पर अन्य जड़ी-बूटियों के साथ मिलाया जाता है, जैसे कि पुनर्नवा (बोरहविया डिफ्यूसा), जिसे सूजन के लिए भी प्रभावी माना जाता है। कालीमिर्च का उपयोग पाचन संबंधी समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता है। यह पेट में ऐंठन या गैस को कम करने के लिए कई योगों में शामिल है। इसका उपयोग पाचन क्रिया को संतुलित करके दस्त और कब्ज के इलाज के लिए भी किया जाता है। इसके एंटी-इन्फ्लैमेटरी गुण इसे अक्सर बवासीर या बवासीर के इलाज के लिए अनुशंसित किया जाता है। जब अन्य अवयवों के साथ मिलाया जाता है तो यह बवासीर से जुड़ी खुजली और सूजन को दूर करने में मदद कर सकता है और संक्रमण को रोकने में मददगार हो सकता है।

दांती मूल (बालियोस्पर्मम मोंटानम): बवासीर में दांती मूल एक बहुत ही उपयोगी जड़ी बूटी है। यह एक प्रभावी सूजन-रोधी एजेंट के रूप में काम करता है और बवासीर के कारण होने वाले दर्द, सूजन, सूजन और रक्तस्राव को कम करने में मदद करता है। इसमें एनाल्जेसिक गुण भी होते हैं, जो दर्द और परेशानी से राहत दिलाने में मदद करते हैं। एक शक्तिशाली कसैले होने के कारण, यह ऊतकों को सिकोड़ता है और उपचार को उत्तेजित करता है।

कुथ (सौसुरिया कोस्टस): कुथ को सौसुरिया कोस्टस भी कहा जाता है। यह बवासीर के उपचार में सहायक है। क्योंकि बवासीर एक ऐसी स्थिति है जो गुदा के आसपास और मलाशय में सूजन पैदा कर सकती है। यह अक्सर बहुत दर्दनाक होता है, और कब्ज या अन्य पाचन समस्याओं के कारण हो सकता है। यह पाचन तंत्र को साफ करने और सूजन को कम करने में मदद करता है।

पाइल्स के अलावा, आयुर्वेद में इसका उपयोग प्राचीन काल से पेचिश, पीलिया, कुष्ठ, अस्थमा और त्वचा रोगों जैसे रोगों के इलाज के लिए किया जाता रहा है। जड़ी बूटी में एक अजीबोगरीब गंध और कड़वा स्वाद होता है। यह पाचन के बाद के प्रभाव में मीठा और स्वाद में कसैला होता है।

कूट पाचन अग्नि को बढ़ाने के लिए उपयोगी है और मुख्य रूप से वात और कफ दोष पर कार्य करता है। यह बवासीर, कब्ज, कीड़े और सांस की बीमारियों के इलाज में भी मदद करता है। यह बवासीर के कारण होने वाली सूजन और दर्द को कम करने में भी मदद करता है।

सोंठ (ज़िंगिबर ऑफ़िसिनेल): इसे सूखी अदरक के नाम से भी जाना जाता है। आयुर्वेद बवासीर से जल्दी राहत पाने के लिए इस घटक के उपयोग की सलाह देता है। यह अपने सूजनरोधी, एंटीऑक्सीडेंट और रोगाणुरोधी गुणों के कारण बवासीर के उपचार में उपयोगी है। इस जड़ी बूटी का सेवन करने से बवासीर के कारण होने वाली सूजन और दर्द को कम करने में मदद मिलेगी। यह पाचन में सुधार करने में भी मदद करता है और शरीर में विषाक्त पदार्थों के संचय को रोकता है।

करंज (मिलिटिया पिननाटा): अरंज, एक औषधीय जड़ी बूटी है जिसका उपयोग बवासीर के इलाज के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सा में सदियों से किया जाता है। करंज एक्जिमा, रिंगवार्म, खुजली सूजन और खरोंच के इलाज के लिए उपयोगी है। इसमें एंटीमिक्राबियल गुण हैं करंग को सदियों से रेचक के रूप में इस्तेमाल किया गया है।

इस जड़ी बूटी में विरोधी सूजन और विरोधी अल्सरोजेनिक होने की गुण है। यह जड़ी बूटी बवासीर, त्वचा रोग, गैस्ट्रिक अल्सर में उपयोगी होती है। यह भड़काऊ प्रतिक्रिया को कम करके, एक विरोधी भड़काऊ और एंटी-अल्सरोजेनिक एजेंट के रूप में कार्य करने के द्वारा बवासीर और अल्सर की स्थितियों के इलाज में उपयोगी है।

लोधरा (सिम्प्लोकोसा रेसमोसा): लोधरा एक उपयोगी जड़ी बूटी है जिसका उपयोग बवासीर के उपचार में किया जा सकता है। लोधरा एक कसैला है और इसमें टैनिन होता है, जो सूजन को कम करने में मदद करता है। यह स्वस्थ ऊतक विकास का भी समर्थन करता है और प्रभावित क्षेत्र को शांत करता है। यह रक्त वाहिकाओं को फैलाकर आपके पूरे शरीर में रक्त परिसंचरण में भी सुधार करता है जो उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद करता है।

लोधरा अल्सर और अन्य गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल विकारों जैसे दस्त या कब्ज में मदद कर सकता है। यह सूजन-रोधी और एंटी-फंगल के रूप में भी जाना जाता है, जो इसे घावों और संक्रमणों के उपचार में उपयोगी बनाता है।

खूनी बवासीर में लोधरा बहुत उपयोगी है। यह तीनों दोषों को शांत करने में सहायक है और इसलिए इसका उपयोग सभी प्रकार के बवासीर के लिए किया जा सकता है।

पद्मका (प्रूनस सेरासोइडस): पद्मका में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो पाइल्स के दर्द को कम करने में मदद करते हैं। जड़ी बूटी का उपयोग पुराने अल्सर, कब्ज और दस्त, अपच और एनीमिया के इलाज के लिए भी किया जाता है।

बवासीर के इलाज के लिए पारंपरिक आयुर्वेदिक चिकित्सा में पद्मका का उपयोग किया जाता है। यह पारंपरिक रूप से एक मूत्रवर्धक, सूजन-रोधी और एंटी-माइक्रोबियल एजेंट के रूप में इस्तेमाल किया गया है। यह पुराने अल्सर, कब्ज और दस्त, अपच, रक्ताल्पता और अधिवृक्क ग्रंथियों को मजबूत करने में भी उपयोगी है।

बोला (कोमीफोरा मायरा): बवासीर में बोला उपयोगी है। यह कसैले, सूजन-रोधी, एनाल्जेसिक और स्टिप्टिक है। राल अल्सर, फोड़े, फोड़े और घावों पर लगाया जाता है। पायरिया में इसका उपयोग माउथ वाश के रूप में भी किया जाता है। इसमें कड़वा कसैला स्वाद होता है और यह बवासीर और पाचन विकारों जैसे रोगों को ठीक करने में उपयोगी है।

गिलोय (टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया): गिलोय (टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया) एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसका उपयोग सदियों से बवासीर सहित कई तरह की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता रहा है। यह एक इम्युनोमोड्यूलेटर के रूप में कार्य करता है। यह शरीर को तनाव के अनुकूल होने की क्षमता बनाए रखने में मदद करता है। गिलोय में एंटी-इंफ्लेमेटरी यौगिक होते हैं जो बवासीर का कारण बनने वाली नसों में सूजन को कम कर सकते हैं। इसे आप सीधे बवासीर पर लगा सकते हैं। यह सूजन और दर्द को कम करने में मददगार है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में भी मदद करता है, इस प्रकार बवासीर की पुनरावृत्ति को रोकता है। गिलोय कब्ज के इलाज में भी कारगर है, जो बवासीर के मुख्य कारणों में से एक है।

पिल्ज़ैक कुछ आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से बना एक उत्पाद है जो पाइल्स के उपचार में सहायक होता है। यह उपर्युक्त जड़ी बूटियों का उपयोग करके बनाया गया है। यह 10x10 टैबलेट की पैकिंग में आता है।

पिल्ज़ैक टैबलेटखरीदने के लिए यहां क्लिक करें




Comments

Send Distribution/Franchise Query

Name

Email *

Message *

Popular posts from this blog

Gasovit Plus Tablets

Nano Curcumin, Piperine and Natural Lycopene Capsules

Remind : तनाव को दूर करने में, याददश्त को बढ़ाने में और मस्तिष्क के विकारो दूर करने में लाभकारी कुछ आयुर्वेदिक जड़ी बुटिया।